Monday, November 12, 2018

Chhattisgrah State symbol छत्तीसगढ़ के राज्य चिह्न


छत्तीसगढ़ के राज्य चिह्न


राजकीय पशु : जंगली भैंस छत्तीसगढ़ शासन ने जुलाई , 2001 में राज्य पशु के रूप में दुर्लभ जंगली भैंसे को चुना है । अंग्रेजी भाषा में इसे व्यूवेलस तथा व्यूवेलिस और हिन्दी में अरना ( नर ) या अरनी ( मादा ) कहते हैं । जंगली भैसा मुख्यतः नेपाल की तराई के घास वनों , असोम में ब्रह्मपुत्र के मैदान , ओडिशा के कुछ हिस्सों और छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में मुख्यतः इन्द्रावती राष्ट्रीय उद्यान , कुरू वन क्षेत्र पामेड़ अभयारण्य एवं उदन्ती अभयारण्य में पाए जाते हैं ।


लोग गीतों के प्रमुख गायक व गायिका CG GK


राजकीय वृक्ष : साल साल छत्तीसगढ़ का राजकीय वृक्ष है । इस वृक्ष की पत्तियाँ 10 - 25 सेमी लम्बी और 5 - 15 सेमी चौड़ी होती हैं । नमी वाले क्षेत्रों में यह सदाबहार है तथा शुष्क क्षेत्रों में पर्णपाती है ।

राजकीय पक्षी : मैना छत्तीसगढ़ शासन ने जुलाई , 2001 में राज्य पक्षी के रूप में बस्तरिया पहाड़ी मैना को अपनाया , जिसे अंग्रेजी में ग्रेट पेनिन्सुलेरिस कहते हैं यह एक नकलची पक्षी है । यह पक्षी बस्तर में अबूझमाड़ , छोटे डोंगर बेची , बारसूर , पुलचर तिरिया और बैलाडीला गिरि श्रृंखला आदि तक सीमित है । इसके पंख काले , जिसके छोर सफेद होते हैं , चोंच गलाची तथा कण्ठ और पैर पीले होते हैं । काँगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में पहाड़ी मैना को संरक्षित किया जा रहा है ।

राज्य की प्रमुख फसलें


राजकीय चिन्ह : छत्तीसगढ़ शासन ने 4 सितम्बर , 2001 को राज्य का प्रतीक चिह्न । अपनाया । ऐसा माना जाता है कि छत्तीसगढ़ नाम इस क्षेत्र के 6 गढों अथवा वसाहों की प्रमुख विशेषता के कारण पड़ा । इन गदों का उल्लेख अनेक बार किलों के रूप में भी हुआ है । छत्तीसगढ़ की नदियों को रेखांकित करती हुई लहरें भी है ।


0 Please Share a Your Opinion.: